Arvind Kejriwal Govt Lanch Historic Policy ' Free Surgery in Private Hospitals

केजरीवाल सरकार का इतिहासिक फैसला शिक्षा के बाद अब स्वास्थ्य में बड़ा तोहफा 

दिल्ली सीएम अरविन्द केजरीवाल और डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया

नई दिल्ली : आम आदमी पार्टी सरकार ने सरकारी अस्पतालों में सर्जरी के लिए लम्बी लाइने को देखते हुए इतिहासिक फैसला लिया है। अब दिल्ली के सरकारी अस्पतालों में ऑपरेशन के लिए 30 से ज्यादा की वेटिंग लिस्ट नहीं होगी। अगर किसी कारण बस देर होती है तो केजरीवाल सरकार प्राइवेट अस्पतालों में ऑपरेशन करवाएगी और सर्जरी की पूरा खर्च सरकार देगी। इसके अलावा दिल्ली के अस्पतालों ने एम आर आई , सिटी स्कैन और पैट सिटी स्कैन जैसे महंगे जांच भी अब मुफ्त होंगे। ये आप सरकार की शिक्षा के बाद अब स्वस्थ में बड़ा धमाका है। इससे आम नागरिक को बहुत लाभ मिलेगा। 




केजरीवाल सरकार ने इसके लिए दिल्ली के कई बड़े और जाने माने निजी अस्पतालों को इस पॉलिसी में शामिल किया है। इन अस्पतालों में दिल्ली सरकार के 30 से ज्यादा अस्पतालों और पॉलीक्लिनिक से मरीजों को रेफर किए जाने पर रेडियोलॉजी टेस्ट मुफ्त किए जाएंगे। अल्ट्रासाउंड पीएमजी रेडियो न्यूक्लियर स्कैन जैसे महंगे टेस्ट भी इस स्कीम में शामिल किए गए हैं। सरकार के अंतर्गत 24 अस्पतालों द्वारा रेफर किए जाने वाले मरीजों को यह सुविधा मिल सकेगी। गालब्लैडर हार्ट बाईपास और किडनी के ऑपरेशन जैसे महंगे उपचार के लिए दिल्ली सरकार ने राजधानी के 48 निजी अस्पतालों को पैनल में शामिल किया है। इस  योजना के तहत लगभग 12 सबसे गंभीर और महंगे ऑपरेशन सरकारी अस्पतालों में विलंब होने की स्थिति में अब प्राइवेट अस्पतालों में होंगे। हालांकि इस योजना का लाभ सिर्फ दिल्ली के रहने वाले मरीजों को ही मिलेगा। फिर भी यह एक इतिहासिक कदम है। इस योजना के कार्यवन्तित होने के बाद दूसरे राज्यों पर दबाव बढ़ने लगेंगे। 




दिल्ली के सरकारी अस्पतालों द्वारा ऑपरेशन और फ्री टेस्ट रेफर किए जाने की स्थिति में उन्हें दिल्ली से जुड़ा हुआ होना चाहिए और अपना पहचान पत्र दिखाना होगाऔर इसके साथही आधार कार्ड, वोटर कार्ड और ड्राइविंग लाइसेंस भी शामिल हैं। सरकारी अस्पताल डॉक्टरों और सर्जनों के साथ-साथ उपकरणों की कमी की समस्या से जूझ रहे हैं। इसके लिए मरीजों को किसी प्रकार की खामियाजा ना उठाना पड़े। यह योजना निगम चुनाव के पहले ही लागू होनी थी।  लेकिन निगम चुनाव की तारीखों का ऐलान होने के बाद दिल्ली में आचार संहिता लागू होने के कारण इस योजना में लगभग तीन महीने का विलंब हो गया है। लेकिन आज  दिनक 8 जुलाई 2017 इस योजना के लागू होने के बाद से दिल्ली का रहने वाला कोई भी नागरिक किसी भी बीमारियों से ग्रसित मुफ्त इलाज और मुफ्त जांच का फायदा उठा सकता है। 


0/Post a Comment/Comments

Thanks For Visiting and Read Blog

Stay Conneted