NIFT के छात्र भी फ़ीस महँगी होने से परेशान हैं, सिर्फ़ वहीं हैं - रवीश कुमार

रवीश कुमार 


वरिष्ठ पत्रकार श्री रवीश कुमार अपने ब्लॉग में लिखते है कि महँगी शिक्षा निराकार विषय नहीं है। जब छात्रों को अभी इतना प्रभावित कर रही है तो आने वाले समय में क्या होगा।


पिछले दिनों हमने इस पर पोस्ट लिखा और छात्रों की तरफ़ से आए दस ईमेल की कापी पोस्ट की थी। कुछ नहीं हुआ। NIFT के छात्र समझदार हैं। उन्हें पता है कि मीडिया में ऐसी खबरों के लिए जगह नहीं है। अयोध्या या रफाल के कवरेज को दोषी ठहराने की ज़रूरत नहीं है। ये दोनों घटनाएँ न भी होतीं तब भी मीडिया कवर नहीं करता। कवर होता भी तो भी कुछ नहीं होता। 

राहुल द्रविड़ को BCCI के Covid-19 टास्क फोर्स का प्रमुख बनने की संभावना


छात्र भी खुद ऐसे मुद्दों को नहीं देखते हैं। उन्हीं के परिवार में लोग किस तरह के कवरेज़ देखते होंगे उन्हें पता होगा। मीडिया में अब अगले पचास साल तक बदलाव मुश्किल है। यह ख़त्म हो चुका है। मीडिया वो मिठाई का डिब्बा है जिसके भीतर मिठाई नहीं होगी फिर भी डिब्बा बिकता रहेगा। मैं तो लिख दो रहा हूँ लेकिन छात्रों को पता होना चाहिए कि शिक्षा का महँगा होना एक नीतिगत लड़ाई है। यह लड़ाई उस सवाल तक पहुँचती है कि शिक्षा को लेकर राज्य का क्या दायित्व है। 




कई संस्थानों के छात्र और उनके माता पिता महँगी फ़ीस के कारण परेशान होंगे लेकिन मुझे नहीं लगता कि वे लोग नई शिक्षा नीति पढ़ रहे होंगे कि कहीं और महँगी तो नहीं होगी। NIFT के छात्रों को फ़ीस दे देनी चाहिए। अब प्रदर्शन का कोई मतलब नहीं रहा। कर रहे हैं यह अच्छी बात है। बग़ैर मीडिया के कर रहे हैं ये सबसे अच्छी बात है। लेकिन अंत में उन्हें फ़ीस देनी पड़ेगी। फ़ीस का इंतज़ाम करे। अफ़सोस मगर यही सच है।

कश्मीर के कुलगाम में सेना का जवान लापता, आतंकवादियों द्वारा अपहरण का संदेह

NIFT के छात्रों का पत्र : उन्हें असफलता की बधाई


Subject: NIFT Fee Hike for Academic Year 2020-21

Greetings!

Hope this email finds you well.
The students at the National Institute of Fashion Technology would be immensely grateful if you could run our story.
We have been protesting our 10% fee hike as a collective student body across all 16 centres. We are expected to pay 2.4 lakhs (Non-NRI) and 9 lakhs (NRI) for online classes without availing any of the infrastructure we are paying for.

Our repeated attempts to get a response from concerned authorities have been futile. A blind eye has been turned on the countless emails the students as well as their parents have sent to the administration.


To further our cause, we are staging a nationwide boycott of classes across all campuses as a means of a silent protest. We shall continue to do so till our fee circular for 2020-21 is restructured in accordance to the current economic crisis.

We would be ever grateful if you could help us in our cause.

Regards.

लालू प्रसाद ने कोसी के बाढ़ पीड़ितों के लिए मुफ्त ट्रेनें चलाईं, पीयूष गोयल ने किराया लेकर घर पहुंचाया - रवीश कुमार

0/Post a Comment/Comments

Thanks For Visiting and Read Blog

Stay Conneted