शीघ्रपतन का इलाज Treatment of premature ejaculation

शीघ्रपतन का  इलाज



विशेषज्ञों का मानना है कि शीघ्रपतन किसी प्रकार का रोग नहीं है, फिर भी यह आज एक बड़ी शारीरिक समस्या बन गई है । इस समस्या की वजह से आज शादी के बाद लोग खुश नहीं रह पा रहे हैं और यह समस्या सिर्फ भारत की नहीं बल्कि दूसरे देशों की भी है, हां यह ज़रुर है कि भारत में यह समस्या शारीरिक होने के साथ-साथ मानसिक भी है । आमतौlर पर यह समस्या पुरुषों में पायी जाती है, परंतु अब यह महिलाओं में भी देखने को मिल रही है ।



शीघ्रपतन क्या होता है?

सेक्स के दौरान चरम सुख पर पहुंचने से पहले ही पुरुष का वीर्य निकल जाना ही शीघ्रपतन है । इसकी सबसे बड़ी वजह मानसिक कमजोरी है। जो व्यक्ति सेक्स को लेकर जितना कम जानता है, वह सेक्स के दौरान शीघ्रपतन का शिकार उतनी जल्दी होता है । अगर सेक्स की सीमा को लंबे समय तक ले जाना है, तो पुरुषों को मानसिक रुप से जागरुक और मज़बूत होना पड़ेगा । उन्हें स्वंय पर नियंत्रण करने की ज़रुरत है। भारत के लगभग 30 से 40 प्रतिशत पुरुषों को यह समस्या है।

यह भी पढ़े - नामर्दी, शीघ्रपतन और वीर्य विकार का रामबाण और स्थाई परिणाम


वैसे, यह भी सच है कि हर पुरुष अपनी जिंदगी में कभी न कभी शीघ्रपतन की समस्या से गुजरता है, क्योंकि यह कोई बीमारी नहीं बल्कि एक प्राकृतिक प्रक्रिया है, जो उम्र के साथ होती ही है। 


यह भी पढ़े - खजूर मर्दाना ताकत और कई रोगों का स्थाई रामबाण उपाय


शीघ्रपतन का क्या है इलाज ?


अगर देखा जाए तो इस परेशानी का इलाज बाहरी न होकर घरेलू है । सबसे पहले आप अपनी जीवनशैली को बदलें और अपने खान-पान पर विशेष ध्यान दें । भोजन में ऐसी चीजों का इस्तेमाल करें, जो आपकी इस समस्या का निदान कर सकते हैं । 





तरबूज का सेवन करे 


तरबूज को नमक लगाकर सेवन करें या फिर तरबूज के छोटे-छोटे टुकड़े कर लें और नमक औरअदरक पाउडर मिलाएं और सेवन करें। तरबूज के अंदर फाइटोन्यूट्रिएंट्स होते हैं जो सेक्स ऊर्जा यानिकामेच्छाबढ़ाने में मदद करते हैं और शीघ्रपत से भी छुटकारा मिलता है। 


यह भी पढ़े - बादाम खाने के फायदे । Health benefits of almonds eating 2017

हरा प्याज़ का प्रयोग करे 


शीघ्रपतन के समस्या से निजात पाने के लिए हरा प्याज़ सबसे बेहतर साबित हो सकता है। हरे प्‍याज के बीजों को पीस लें और पानी में मिलाएं और इसके बाद इस मिश्रण को सुबह, दिन और रात में भोजन करने से पहले पी लें। यह प्रक्रिया आपको एक महीने तक दोहरानी है।



अश्वगंधा का सेवन करे 


अश्वगंधा पाउडर 5 ग्राम की मात्रा में लें और उसमें उसी बराबर मात्रा में मिश्री मिलाएंऔर गुनगुने दूध के साथ एक बार सुबह और एक बार शाम में इसका सेवन करें और ऐसा लगातर 3 महिनों तक करते रहें।


यह भी पढ़े - काजू खाने के जबरदस्त फायदे

उड़द दाल की खिचड़ी खाये 


उड़द दाल और चावल की खिचड़ी का सेवन देसी घी के साथ सुबह और शाम करें। खिचड़ी खाने के बाद एक गिलास गुनगुना मीठा दूध पिए। यही प्रक्रिया लगभग एक महीने तक जारी रखें। लेकिन यह ध्यान रखें कि आप जितना खा सकते हैं सिर्फ उतना ही खाएं। जरूरत से ज्यादा न खाये।





अदरक-शहद का मिश्रण का प्रयोग


शीघ्रपतन के समस्या से निजात पाने के लिए जब भी रात को सोने जाएं उससे पहले एक चम्मच अदरक पीस लें और उसमें आधा चमम्च शहद मिलाएं और अब इस मिश्रण को जीब द्वारा चाटें। यह मिश्रण शरीर में गर्मी पैदा करेगा, जिससे रक्त का प्रवाह बेहतर होगा। 


भिंडी पाउडर का सेवन


रात को जब सोने जाएं तो उससे पहले गुनगुने दूध में 10 ग्राम भिंडी पाउडर मिलाकर पी लें । ऐसा लगातार एक महीने तक करें।

यह भी पढ़े - बलगम का रामबाण घरेलू नुख्से


लहसुन का प्रयोग 


किसी भी प्रकार की सेक्स समस्या हो, लहसुन उसमें बहुत लाभकारी होता है । ठीक इसी तरह शीघ्रपतन की समस्या में भी लहसुन एक चमत्कारी विकल्प है । प्रतिदिन आपको 3 से 4 कच्चेलहसुनकी कलियों का सेवन करना है ।इसका रोज़ सेवन करने शीघ्रपतन में राहत मिलेगी ।


जिंक

जिंक ऐसा तत्व है जो पुरुषों में प्रजनन क्षमता को बढ़ाने में ज़रुरी भूमिका निभाता है। इंटरनेशनल जर्नल ऑफ मॉलिक्यूलर साइंसेज के मुताबिक,  बांझपन की समस्या से परेशान पुरुषों के स्पर्म में जिंक की मात्रा कम थी। जिंक के सेवन से यौन रोग में सुधारकिया जा सकता है। जिंक वाले आहार के साथ-साथ पुरुषों को जिंक सप्लीमेंट्स के तौर पर भी खाने चाहिए। जिंक पुरुष के शरीर में सीरमटेस्टोस्टेरोन के लेवल को बढ़ा देता है ।

यह भी पढ़े - मधुमेह से ग्रसितों के लिए सर्वश्रेठ फल !! The best fruits for those suffering from diabetes


मैग्नीशियम


पुरुषों में हेल्दी स्पर्म और प्रजनन की बेहतर क्षमता के लिए मैग्नीशियम तत्व बहुत ज़रुरी होता है। एशियन जर्नल ऑफ एंड्रोलॉजी की समीक्षा के अनुसार शीघ्रपतन की समस्या को कम करने के लिए शरीर में मैग्नीशियम का स्तर ठीक होना बेहद ज़रुरी है।





कंडोम प्रयोग करें


इस समस्या से निजात पाने में कंडोमभी मददगार साबित हो सकता है । कंडोम को इस्तेमाल करने से लिंग की सेंसटिविटी कम होती है और इसी वजह से शीध्रपतन देर से होता है, हालांकिइसके लिए आपको दूसरे प्रकार के कंडोम का प्रयोग करना पड़ेगा । इसे “क्लाइमैक्स कंट्रोल” कंडोम कहते हैं । इसके अलावा, इस समस्या के निदान के लिए आप किसी सेकसोलॉजिस्ट से संपर्क करें । वह आपको बेहतर परामर्श के साथ लिंग पर लगाने के लिए क्रीम या खाने के लिए दवाएं दे सकता है ।



यह भी पढ़े - घरेलू नुख्सों से करे गिरते बालों की उपचार

पार्टनर से खुल कर करें बात


शीघ्रपतन एक ऐसी समस्या है, जिससे कुंवारे और शादीशुदा, हर तरह के पुरुष परेशान रहते हैं । वैसे यह समस्या शारीरिक कम और मानसिक ज्यादा है और इसके लिए मनोविज्ञानिक स्थिति का नियंत्रित होना बेहद ज़रुरी है । वैसे यह समस्या कभी-कभी स्वंय ही सेक्स करते-करते ठीक हो जाती है । यह परेशानी बड़ी तब बन जाती है जब पुरुष इसके कारण किसी तरह की हीन भावना का शिकार हो जाते हैं और खुद को नीचा समझने लगते हैं ।






शीघ्रपतन का इलाज करने के लिए सभ जगह यौन रोग विशेषज्ञ मौजूद हैं और वह हमेशा यही सलाह देते हैं कि पुरुषों को अपने सैक्स पार्टनर से इस बारे में खुलकर बात करनी चाहिए और इलाज के दौरान भी उसे साथ में लाना चाहिए । इसके इलाज के लिए सेक्स विशेषज्ञ पुरुष के स्वास्थ्य इतिहास और फैमिली मेडिकल हिस्ट्री के बारे में जानते हैं और फिर पुरुष के साथी के साथ उनकी सेक्स लाइफ के बारे में बात करते हैं। जब वह पूरी तरह केस स्टडी कर लेते हैं, तब वह पुरुष को परामर्श देते हुए आहार में बदलाव करने की सलाह देते हैं । इसी के साथ-साथ कुछ सप्लीमेंट लेने का सुझाव भी देते हैं।

यह भी पढ़े - कैसे करे मधुमेह को नियंत्रण


शीघ्रपतन के इलाज के लिए दवा | Medicine for premature ejaculation 



ट्रामाडोल शीघ्रपतन के लिए एक प्रभावी उपचार है और इसने संभोग से संतुष्टि में नैदानिक सुधार और स्खलन पर नियंत्रण दिखाया है। इसे अच्छी तरह से सहन भी किया जाता है।

सेरोटोनर्जिक और चयनात्मक सेरोटोनिन रीपटेक इनहिबिटर (एसएसआरआई) एजेंटों के लगातार उपयोग ने स्खलन में देरी करने में प्रभावशीलता दिखाई है।






वर्तमान में, वे पीई के लिए उपलब्ध मुख्य उपचार विकल्प हैं। लेकिन, SSRIs का पुराना उपयोग गंभीर दुष्प्रभावों से जुड़ा हुआ है, जिसमें मनोरोग और तंत्रिका संबंधी परिणाम और अवांछित यौन दुष्प्रभाव शामिल हैं।

नोट - पीई के लिए कोई भी उपचार लेने से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें


0/Post a Comment/Comments

Thanks For Visiting and Read Blog

Stay Conneted