प्रचंड जीत के बाद बोले पीएम मोदी, सबको साथ लेकर चलूंगा

प्रचंड जीत के बाद बोले पीएम मोदी, सबको साथ लेकर चलूंगा 



नई दिल्ली : प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी ने लोक सभा चुनाव में प्रचंड जीत मिलने के बाद भारतीय जनता पार्टी दफ्तर में कार्यकर्ताओं को संबोधित किया। उन्होंने कहा कि आज देश के कोटी-कोटी नागरिकों ने इस फ़कीर की झोली को भर दिया। 





मैं भारत के 130 करोड़ नागरिकों का सिर झुका कर नमन करता हूं। 2019 के मतदान का आंकड़ा अपने आप में लोकतांत्रिक विश्व के इतिहास की सबसे बड़ी घटना है। उन्होंने कहा कि आने वाले दिनों में वह बदइरादे से, बदनियत से कोई काम नहीं करेंगे।


यह भी पढ़े - मोदी सरकार आते ही सेंसेक्स 40124 के रिकॉर्ड स्तर पर



पीएम मोदी ने कहा कि, मैं इस लोकतंत्र के उत्सव में लोकतंत्र की खातिर, जिन-जिन लोगों ने बलिदान दिया है, जो घायल हुए हैं, उनके पारिवारजनों के प्रति संवेदना प्रकट करता हूं और लोकतंत्र के इतिहास में लोकतंत्र के लिए मरना, आने वाली पीढ़ियों को प्रेरणा देती रहेगी। उन्होंने कहा कि 2 से दोबारा की यात्रा में कई उतार-चढ़ाव आए न तब निराश हुए और न अब आदर्शों को छोड़ेंगे। 





उन्होंने कहा कि, इस चुनाव में मैं पहले दिन से कहा रहा था कि ये चुनाव कोई दल नहीं लड़ रहा है, कोई उम्मीदवार नहीं लड़ रहा है, कोई नेता नहीं लड़ रहा है। ये चुनाव देश की जनता लड़ रही है। 



यह भी पढ़े - पीएम मोदी का ममता दीदी पर बोला हमला, कहा पश्चिम बंगाल आपकी और आपके भतीजे की जागीर नहीं



उन्होंने कहा कि, आज कोई विजयी हुआ है तो हिन्दुस्तान विजयी हुआ है, लोकतंत्र विजयी हुआ है, जनता-जनार्दन विजयी हुई है। इस लोकसभा चुनाव में जो विजयी हुए हैं, उन सभी विजेताओं को मैं हृदयपूर्वक बधाई देता हूं। दो से दोबारा आने तक इस यात्रा में अनेक उतार-चढ़ाव आए हैं। दो थे तब भी निराश नहीं हुए, दोबारा आए तब भी अपनी नम्रता, आदर्श को नहीं छोड़ेंगे।





प्रधानमंत्री ने कहा कि, ये विजय देश के उन किसानों की है, जो पसीना बहाकर राष्ट्र का पेट भरने के लिए अपने को परेशान करता रहता है। ये उन 40 करोड़ असंगठित मजदूरों की विजय है, जिन्हें पेंशन योजना लागू करके सम्मानजनक जीवन जीने का अवसर मिला है। 





पीएम मोदी ने आगे कहा कि, ये विजय उस बीमार व्यक्ति की है जो 4-5 साल से पैसों कमी की वजह से अपना उपचार नहीं करवा पा रहा था और आज उसका उपचार हो रहा है। ये उसके आशीर्वाद की विजय है। ये विजय उन बेघरों की विजय है जो जीवन भर कच्चे मकान में रहे और आज अपने पक्के घर में रह रहे हैं। ये उन लोगों की विजय है।

0/Post a Comment/Comments

Thanks For Visiting and Read Blog

Stay Conneted