तेल कम्पनियों सहित बैंको का बढ़ा घाटा, PNB को चौथी तिमाही में 4750 करोड़ का हुआ घाटा

तेल कम्पनियों सहित बैंको का बढ़ा घाटा, PNB को चौथी तिमाही में 4750 करोड़ का हुआ घाटा  



नई दिल्ली : देश की सबसे तेल के क्षेत्र में बिख्यात कम्पनी  इंडियन ऑयल कोरपोरेशन (I0C), भारत पेट्रोलियम कोरपोरेशन (BPCL), हिन्दुस्तान पेट्रोलियम(HPCL) इन तीनों कंपनियों का संयुक्त कर्ज़ 1 लाख 62 हज़ार करोड़ हो गया है। जो पिछले साल के मुकाबले 30 प्रतिशत अधिक है। इंडियन ऑयल कोरपोरेशन का कर्ज़ तो 92 हज़ार करोड़ से अधिक हो गया है। 2014 में इन तीनों कंपनियों की कुल देनदारी 1 लाख 76 हज़ार करोड़ हो गई थी। तब अंतर्राष्ट्रीय बाज़ार में तेल की कीमत 100 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच गई थी।





सरकार ने 33900 की सब्सिडी नही दिया 


बिजनेस स्टैंडर्ड ने लिखा है कि देनदारी इसलिए बढ़ी है कि इन कंपनियों का पूंजी ख़र्च बढ़ा है और सब्सिडी के भुगतान में देरी हुई है। सरकार की तरफ से 33,900 करोड़ की सब्सिडी नहीं आई है। सरकार ने इसलिए भुगतान नहीं किया है क्योंकि वह इस पैसे को अपने खाते में रोककर वित्तीय घाटे को कम दिखाना चाहती है।


यह भी पढ़े - चुनाव परिणाम आते ही लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी पर रहे डीजल, पेट्रोल के दाम


PNB का घाटा चौथी तिमाही में 4750 करोड़


पंजाब नेशनल बैंक एक बार फिर से घाटे में पहुंच गया है। तीसरी तिमाही में बैंक को 246 करोड़ का लाभ हुआ था। 2018-19 की चौथी तिमाही में बैंक को 4,750 करोड़ का घाटा हुआ है। पिछले साल इस बैंक का घाटा 14,356 करोड़ पहुंच गया था। बैंक ने 2,861 करोड़ की आपरेटिंग प्रोफिट हासिल की है। पंजाब नेशनल बैंक का 900 करोड़ रुपया जेट के पास बकाया है तो 1800 करोड़ IL&FS के पास बकाया है। 





पिछली मोदी सरकार ने बैंकों के विलय के ज़रिए बैंकों के संकट को दूर करने का प्रयास किया था। हो सकता है विलय की प्रक्रिया तेज़ हो। मोदी को मिले जनसमर्थन से इन फैसलों को तेज़ गति से लेने में आसानी होगी। नतीजा क्या होगा, इसका विश्लेषण जब आएगा तब हम बताने का प्रयास करेंगे।


यह भी पढ़े - मोदी राज में चोटी की 25 फीसदी कंपनियों की बाज़ार पूंजी आधी हो गई : रवीश कुमार



टेलिकाम और फार्मा सेक्टर में भी नुकसान 


छह साल में पहली बार हुआ है जब इक्विटी में प्रत्यक्ष विदेशी निवेश कम हुआ है। ज़्यादा नहीं मात्र एक फीसदी की कमी आई है। टेलिकाम और फार्मा सेक्टर में एफ डी आई घटा है। फार्मा सेक्टर की बड़ी कंपनी है सन फार्मा। यह घाटे में जाने लगी थी मगर इसमें कुछ सुधार के संकेत नज़र आ रहे हैं।





डॉलर के मुकाबले रुपया फिर से कमज़ोर


डॉलर के मुकाबले रुपया फिर से कमज़ोर होने लगा है। ईरान और अमरीका का तनाव कम नहीं हो रहा है। अमरीका ने भारत से भी कह दिया है कि अब वह ईरान से तेल का आयात नहीं कर सकता है। चुनाव के बाद इसका असर तेल के दामों पर तो दिखना ही है। पिछले 9 दिनों में प्रति लीटर 70-80 पैसे की वृद्धि हो चुकी है।



गारमेंट सेक्टर में सुधार के संकेत


बिजनेस स्टैंडर्ड में ही एक संपादकीय लेख है कि गारमेंट सेक्टर में दो साल तक आई गिरावाट के बाद सुधार के संकेत दिख रहे हैं। गारमेंट सेक्टर का निर्यात बढ़ता दिख रहा है। रोज़गार में वृद्धि के लिए इस सेक्टर का सुधरना बहुत ज़रूरी है।



यह भी पढ़े - मोदी सरकार आते ही सेंसेक्स 40124 के रिकॉर्ड स्तर पर


देश में सूखे की समस्या 




आधा भारत सूखे की चपेट में है। वक्त आ गया है कि हम सभी बेरोज़गारी से भी ज़्यादा पानी की समस्या पर ध्यान दें। पानी सबको बेरोज़गार करेगा। पानी का यह संकट जानलेवा होता जा रहा है। लोगों को तैयार किया जाए कि अपनी हाउसिंग सोसायटी में स्वीमिंग पुल न चलने दें। जहां तालाब है वहां सार्वजनिक काम हो। सरकार के संसाधानों का सही इस्तमाल हो। बारिश के शुरू होते ही पानी की बात बंद हो जाती है। सभी को पानी के संकट पर साल पर बात करनी होगी। इसका असर कई तरह से हो रहा है। लोग नारकीय जीवन जीने के लिए मजबूर हो रहे हैं।




0/Post a Comment/Comments

Thanks For Visiting and Read Blog

Stay Conneted